ज्ञान के बिना मनुष्य पशु समान, सतसंग कराता है ज्ञान - स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य
01-01-2022

श्री सिद्धदाता आश्रम में नववर्ष कार्यक्रम बड़ी सादगी के साथ मनाया गया। इस दिन पीठाधिपति श्रीमद जगदगुरु रामानुजाचार्य स्वामी श्री पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज का जन्मदिन होने से भी भक्त बधाइयां देने पहुंचे।

इस अवसर पर श्री गुरु महाराज ने कहा कि ज्ञान के बिना मनुष्य पशु के समान है। सही गलत का ज्ञान न होने से मनुष्य और पशु में कोई अंतर नहीं रह जाता है लेकिन सतसंग से मनुष्य को ज्ञान होता है। अज्ञानता के सागर में गोते लगाते मनुष्य को ज्ञान कराकर भव सागर पार कराने वाले गुरु सर्वदा पूज्य हैं। गुरुओं की आज्ञा को मानकर जीवन जीने वाले को परमात्मा की कृपाएं अवश्य ही प्राप्त होती हैं। उन्होंने भक्तों से कहा कि वह अपने जीवन में धर्म को उचित स्थान दें। धर्म के बिना मनुष्य की गति नहीं होती है। उन्होंने सभी से नववर्ष में नवसंकल्प लेकर जीवन में सकारात्मक बदलाव लेने की बात कही।

इस अवसर पर जगदगुरु स्वामी पुरुषोत्तमाचार्य जी महाराज को जन्मदिन की बधाई देने और नववर्ष के अवसर पर आशीर्वाद प्राप्त करने की उत्सुकता भक्तों में देखी गई। इससे पहले श्री गुरु महाराज ने श्री लक्ष्मीनारायण दिव्यधाम में भगवान की और स्मृति स्थल पर वैकुंठवासी गुरु महाराज की समाधि पर लोककल्याण के लिए अर्चना एवं आराधना की।

इस अवसर पर आश्रम की वार्षिकी सुदर्शनालोक का विमोचन भी स्वामी जी ने किया। वहीं 23 जनवरी को दीक्षा कार्यक्रम की भी घोषणा की गई। पूरा दिन चलने वाले इस कार्यक्रम में भक्त शिष्यत्व ग्रहण कर सकेंगे। जयपुर से आए गायक लोकेश शर्मा ने सुमधुर भजन प्रस्तुत किए वहीं सेवादारों के बच्चों द्वारा सुंदर सांस्कृतिक प्रस्तुतियां भी दी गईं। सभी भक्तों के लिए भोजन प्रसाद की व्यवस्था की गई। आश्रम परिसर को सुंदर लाईटों एवं फूलमालाओं से सजाया गया था।



लिस्टिंग के लिए वापस


Site by Magnon\TBWA